ग़ज़ल(मौत के साये में जीती चार पल की जिन्दगी)

ग़ज़ल(मौत के साये में जीती चार पल की जिन्दगी)

आगमन नए दौर का आप जिसको कह रहे
वो सेक्स की रंगीनियों की पैर में जंजीर है

सुन चुकेहैं बहुत किस्से वीरता पुरुषार्थ के
हर रोज फिर किसी द्रौपदी का खिंच रहा क्यों चीर है

खून से खेली है होली आज के इस दौर में
कह रहे सब आज ये नहीं मिल रहा अब नीर है

मौत के साये में जीती चार पल की जिन्दगी
ये ब्यथा अपनी नहीं हर एक की ये पीर है

आज के हालत में किस किस से हम बचकर चले
प्रश्न लगता है सरल पर ये बहुत गंभीर है

चंद रुपयों की बदौलत बेचकर हर चीज को
आज हम आबाज देते की बेचना जमीर है

ग़ज़ल :
मदन मोहन सक्सेना

One Response

  1. Shishir "Madhukar" 01/10/2015

Leave a Reply to Shishir "Madhukar" Cancel reply