हिंदी – राष्ट्र भाषा

देश का मान है हिंदी।
देश का सम्मान है हिंदी।
देश की शान है हिंदी।
देश की पहचान है हिंदी।

हर दिल की जान है हिंदी।
शब्दों की पहचान है हिंदी।
विचारों का प्रवाह है हिंदी।
लबों पर मुस्कान है हिंदी।

‘भारतेंदु’ की सोच है हिंदी।
‘प्रेमचंद’ की कल्पना है हिंदी।
‘निराला’ की कविता है हिंदी।
‘पंत’ की भावना है हिंदी।

देश की शान है हिंदी।
देश की पहचान है हिंदी।
भारत माँ का मुकुट है हिंदी।
भारत माँ के माथे की बिंदी है हिंदी।

— निशान्त पन्त “निशु”

2 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" 13/09/2015
  2. D K Nivatiyan 15/09/2015

Leave a Reply