बिटियाँ हु मै आपकी ,मुझको दूर भगाओना

बिटियाँ हु मै आपकी ,मुझको दूर भगाओना
प्यार करो एक पल मुझको
गोंद में अपनी बिठाओना
भर नहीं बहार हू मै ,
सबके गले का हार हू मै
कुछ तो संचयी प्यार
मुझपे भी बरसाओना
बिटिया हू मै आपकी ,मुझको दूर भगाओना ..
थक हार जब आप काम से लौटेंगे
तो पानी मै ही लाऊंगी
दर्द से टूटते माथे को,
पहले मै ही दबाउंगी
थोड़ा सा स्नेह मुझपे भी लुटाओना
बिटियाँ हु मै आपकी ,मुझको दूर भगाओना …
भैया के होठो पे मुस्कान,
राखी मेरी ही लाएगी
बन्ध हांथों में उनके ,
प्रतिपल प्यार मेरा दर्शाएगी,
माँ के दुखों में हो सहभागी ,
मै काज सभी बटाउंगी
अपनी चंचल बातों से
दिल सबका बहलाऊँगी
मुझसे इतना द्वेष रचाओना
बिटियाँ हु मै आपकी ,मुझको दूर भगाओना ..
परिवार के अपने आदर्शों का ,
मै मान सदैव बढ़ाउंगी ,
घर के अपने संस्कारो से ,
ऊँचा नाम कमाऊँगी
माँ-पापा का नाम जगत में ,
रोशन मै कर आउंगी
कतरा एक प्यार का
मुझपे भी लुटाओना
बिटियाँ हु मै आपकी ,मुझको दूर भगाओना ….

6 Comments

  1. Anuj Tiwari"Indwar" 05/09/2015
    • Hariom upadhyay 06/09/2015
      • omendra.shukla 07/09/2015
    • omendra.shukla 07/09/2015
  2. D K Nivatiya 07/09/2015
    • omendra.shukla 07/09/2015

Leave a Reply