विश्वास

सादगी से दिल
जीत लेते है,
उसी सादगी से
दगा दे देते है,
छीन लेते है
दोस्त (विश्वास) तुम्हारे,
रह जाते हो
तुम तन्हा बेचारे,
खोजते हो नए
दोस्त (विश्वास) तुम,
पर डर के घेरे में
रह जाते है
विचार सारे|

बी.शिवानी

3 Comments

  1. SONIKA 14/08/2015
    • भारती शिवानी 14/08/2015
  2. Anuj Tiwari"Indwar" 14/08/2015

Leave a Reply