।। आज मुझे रोने दो।।

आँखो को आँसुओ से भीगने दो, मेरी गलतियों को मुझपे हँसने दो।
आज मुझको रोने दो, आज मुझको रोने दो।

ख्वाबो के सहारे जिंदगी चल रही है ,
हर एक टूटता सा ख्वाब मुझपे हस सी रही है ।
लबो की ख़ामोशी, आँखों के आँसु मेरी हालात बयाँ कर रहे है।
मेरी ग़लतिया मुझे याद आ रहे है, हर एक पल तड़पा रहे है।

आज फिर रोया है दिल ,अपनों को खोया है दिल ,
मुस्कानों की तलाश में न सोया है दिल,
रो -रोकर दिल फट सा रहा है, हर कोइ मन ही मन हस सा रहा है ।
आज मै कुछ हारा हूँ, फिर भी अपनों को प्यारा हुँ ।
आँखों में ना है अब सपने ,वक्त ठहर सा गया है,पग रास्ता बहक सा गया है,
मेरे आँसु यार हो गए, यार मेरे आँसु हो गए।

चाहत सिर्फ एक है मौत की, याद आते हैं अपने ।
लेकिन जिंदगी छोटी है, बेशक मुझसे रूठी है।
हमने कई बार आँखों को अपने आँसुओ से धोया है , काश ये जिंदगी इस बार हँसा दे।
कुछ ही समय बचा है स्वयं को आजमाने को,
अपनो को हँसाने को, लोगो को दिखाने को,
असीमित साहस है फिर से लड़ूंगा मै, अपनों के लिए फिर से उठूँगा मैं।
मुश्किलो मेरी ललकार सुनलो, अपने कफ़न को आज ही बुनलो , मेरी आँखों को मैंने आँसुओ से सींचा है,
आज इन आँखों में पत्थर पिघलाने की ताकत है ।

अपने अंदर की आग को मैं बुझने न दूँगा ,
अपने कदम को रुकने ना दूँगा,
हँसने दोे लोगो को मैं लोगो से अलग हूँ ,
हाँ रूद्र हूँ मैं क्रुद्ध हूँ ।
सुख दुःख ,आलश को त्याग दुँगा , अपने जीवन को फिर से मैं नया आयाम दुँगा ।

2 Comments

  1. Anuj Tiwari"Indwar" 04/08/2015
  2. ajay921 06/08/2015

Leave a Reply