कोशिश कर रही हूँ

उलझा हुआ हैं मेरा जीवन ,
सुलझाने की कोशिश कर रही हूँ …
राह में पत्थर बहुत हैं …
उसे हटाने की कोशिश कर रही हूँ …..
कठिनाइयों से भरी हैं ज़िन्दगी ,…
मेहनत करने की कोशिश कर रही हूँ …
बेचैन और नासमझ मन को समझाने की कोशिश कर रही हूँ ….
झूठ का दोशाला ओढ़े इस दुनिया का ,
सत्य जानने की कोशिश कर रही हूँ ….
राह में डगमगाते राही को…
सहारा देने की कोशिश कर रही हूँ ….
दुःख से भरा हैं यह जीवन ,
फिर भी सुखी रहने की कोशिश कर रही हूँ….
अयोग्यता का भंडार हैं यहाँ …
फिर भी योग्य बनने की कोशिश कर रही हूँ ….
नाज़ुक से इन रिश्तों में दूरियां बहुत हैं ….
उसे मिटाने की कोशिश कर रही हूँ ….
व्यस्तता भरे जीवन में अपनों के लिए,
कुछ पल निकालने की कोशिश कर रही हूँ ….
अपने औलाद से माँ-बाप को उम्मीद बहुत होती हैं ,
उन्ही के उस उम्मीदों पे खरा उतरने की कोशिश कर रही हूँ …
उलझा हुआ हैं मेरा जीवन ,
सुलझाने की कोशिश कर रही हूँ ……

(अंकिता आशू )

One Response

  1. Anuj Tiwari"Indwar" 21/07/2015

Leave a Reply