मुक्तक

ऐसे तो हम बेपरवाह नही जो बेवजह मन भटकता है
है जरूर कुछ बात तुममें जो दिल तुम पर अटकता है

ऐसी कोई दिल्ल्गी तो नही की हमने कभी तेरे संग में
न जाने क्यों तेरे संग वक़्त बिताने को मन तरसता है

कितनी बेरहमी से ये दुपटटा तेरे बदन पर सिमटता है
जैसे चन्दन के पेड़ से कोई जहरीला अजगर लिपटता है

इस दुनिया में लोग बने बहरूपिये रहते पहनकर नकाब !
कैसे समझपाओगे यंहा कौन अच्छा, और कौन खराब !!

न करना हमदर्दी ऐ दोस्त हमपर, हमे अब डर लगता है !
दर्द उन्ही से मिलते है, जिन पर इंसान भरोसा करता है !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ _______!!

2 Comments

  1. vaibhavk dubey 05/04/2015
    • निवातियाँ डी. के. 05/06/2015

Leave a Reply