शिलान्यास

निकल कर कोख से वो आसमान नापता है,
अभिमान की खुमारी में वो देखो कैसे हांकता है,
चलने वाले भी बहुत हैं उसके पीछे पीछे,
दिखा कर दर्द खुशियों के वो सपने बांटता है ,
दाग लगते ही नहीं उसका श्वेत लिबास है,
मिलता है झुक कर,वाणी में मिठास है ,
देती हैं गालियां ,टूटी सड़कें ,नालियां ,
शिलान्यास का पत्थर ही इनका विकास है….

One Response

Leave a Reply to चन्द्र भूषण सिंह Cancel reply