क्या दुःख है, समंदर को बता भी नहीं सकता

क्या दुःख है, समंदर को बता भी नहीं सकता
आँसू की तरह आँख तक आ भी नहीं सकता

तू छोड़ रहा है, तो ख़ता इसमें तेरी क्या
हर शख्स मेरा साथ, निभा भी नहीं सकता

प्यासे रहे जाते हैं जमाने के सवालात
किसके लिए जिन्दा हूँ, बता भी नहीं सकता

घर ढूंढ रहे हैं मेरा , रातों के पुजारी
मैं हूँ कि चरागों को बुझा भी नहीं सकता

वैसे तो एक आँसू ही बहा के मुझे ले जाए
ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता.

You can just pull out

On the flip side, in case you have determined that you would like to write an essay about the development

One can have an easy word that is straightforward, or it may also be a hidden meaning which you may not

You can get in touch with the teacher or a friend who’s already in college and request them to help you with your assignments, so you can purchase term paper without getting into any kind my sources of problem.

find if you don’t go through the entire book.

of human beings, you must have a clearer idea on the subject.

the article online and start writing.

Leave a Reply