आजाद इन्डिया

कहते है आजाद है इन्डिया
और तिरंगा लहराते है
बोलते साहब अंग्रेजी में
और हिंदी में शर्माते है
सत्तू खाना छोड़ के सबेरे
सेन्डविच चबाते है
ताजा रोटी पड़ी तवे में
और बासी पिज्जा खाते है
‘जय जगदीश हरे’ भजन की
फ़िल्मी मेलोडी बनाते है
गाये कौन अब ‘मेरे देश की धरती’
पाप म्यूजिक कान में लगाते है
हिन्दू मुस्लिम इशाई कह के
जात पात दिखाते है
भाइ भाइ आपस में लड़ के
अपने ही खून बहाते है
कहाँ गई अहिंषा गांधी की
क्यों गंगाको नरक बनाते है
अंग्रेजी में करते गिटपिट
क्यों अपनी भाषा में शर्माते है ?
कहते है आजाद है इन्डिया
और तिरंगा लहराते है
बोलते साहब अंग्रेजी में
और हिंदी में शर्माते है
हरि पौडेल
नेदरल्याण्ड
३०-१०-२०१४

5 Comments

  1. अरुण जी अग्रवाल 31/10/2014
  2. अरुण जी अग्रवाल 31/10/2014
  3. Paudel 31/10/2014
  4. Rinki Raut 01/11/2014
  5. Paudel 01/11/2014

Leave a Reply