क्या लिखूँ – डी. के. निवातिया

क्या लिखूँ

***

ऐ हुस्न-ए-कातिल, तेरी मचलती अदाओ की शान में क्या लिखूँ I
किसी चमन में खिलता सुर्ख गुलाब,या तेरे चहरे का रुआब लिखूँ I I

टूटा जो दर्पण होकर शर्मशार, इसे तेरी निगाँहों का वार लिखूँ I
इसे मै कत्लेआम कहुँ या तेरी शातिर नजरो का कमाल लिखूँ I I

तेरे गुजरने से चटकती है कलियाँ, क्या गुलशन का हाल लिखूँ I
इसे गुलो की ह्या कहुँ, या तेरी मस्त अदाओं का बवाल लिखूँ I I

ठहर जाती है उफनती सागर की लहरें, क्या उनका मैं हाल लिखूँ I
करती है सजदे ये तेरे सत्कार में,या तेरी रवानी का तूफ़ान लिखूँ I I

बदल जाता है रुख हवाओं का, इसे तेरी आहट का कमाल लिखूँ I
तेरी खुशबू का असर कहुँ या इसे शोख अदाओं का धमाल लिखूँ I I

छुप-छुप के बादलों के बीच, ताकते चाँद का शर्माना आम लिखूँ I
उसे जन्नत की हूर कहुँ ,या ज़मीं पे उतरता बारास्ता चाँद लिखूँ I I

I

### डी. के. निवातिया ###

2 Comments

  1. Anuj Tiwari"Indwar" 24/08/2015
    • निवातियाँ डी. के. 26/08/2015

Leave a Reply