‘मुक्तक’

‘मुक्तक’
आओ मन खुद निज जीवन में, मिल जुल कुछ ऐसा गीत सुनाएँ। भारत के बिखरे बिरवे को, गुथ-गुथ आँगन इसे सजाएँ।|

‘मुक्तक’
सारे कायनात में खास आम हो गया, महफिल में मानो कत्लेआम हो गया? मैं खोजता फिरा कनात की सड़क मगर, सारे डगर को परखा जाम हो गया।।

2 Comments

  1. अरुण जी अग्रवाल 18/10/2014
  2. sukhmangal singh 27/07/2019

Leave a Reply