जिन्दगी का फल्सफा

जिन्दगी का फल्सफा है,
हाद्सो का सिलसिला है,
ख्वाहिशो का जलजला है !!

चाहतों का रास्ता है,
दुशमनों का कारवां है,
सच को झठ ही मिला है !!

प्यार से बस दर्द ही मिला है,
फिर भी ये दिल मनचला है,
कहती है ये दुनिया हौन्सला है !!

चीर कर अन्धेरा आता उजाला है,
जिन्दगी सुख दुख का मेला है,
बस मेरा ही मन अकेला है !!

नादान है जो सप्नो पे यकीन करता है,
टूटे हुए टुकडे हर बार जोडता है,
भूल जाता है अपनी किस्मत का पन्ना ही कन्टीला है !!

2 Comments

  1. Gurcharan Mehta 26/10/2013

Leave a Reply to सुनील लोहमरोड़ Cancel reply