तेरी जिन्दगी है…

हर मोड़ पे एक नया रूप तेरी जिन्दगी है,
कभी दुल्हन खूबसूरत तो कभी विधवा अकेली है !!

कभी सच्चा मासूम तो कभी झूठा शैतान है,
कभी सपना तो कभी कड्वी हकीकत तेरी जिन्दगी है !!

कभी रात काली तो कभी उजला सवेरा है,
कभी बारिश तो कभी तपती धूप तेरी जिन्दगी है !!

कभी पतझड़ तो कभी खिलता बसन्त है,
कभी कंटीला रास्ता तो कभी फूलो की सेज तेरी जिन्दगी है !!

हर ख्वाहिश का बलिदान मांगती जिन्दगी है,
हर धोखे से मिली सीख तेरी जिन्दगी है !!

पर हर रूप मे हंसना तुझे जिन्दगी है,
हर मुसीबत का हल दूंढ़ना ही तेरी जिन्दगी है !!

One Response

  1. Gurcharan Mehta 14/08/2013

Leave a Reply