कोमल कली

तुम दर्द बनकर पैदा  हूई

तुम एक मासूम कली

कोमल सी हो कोपल तुम

तुम जयोति आखो की

तुम सुकून मेरा

तूम  आसरा

तुम रातरानी रातो की

तूम मुस्स्कान अधरो पर

मेरी बेटी नाजो की

 

2 Comments

  1. Shubham Srivastava 21/05/2013
  2. SUHANATA SHIKAN 24/05/2013

Leave a Reply