बिट्टू की शायरी

*
मैं बहुत नही कमाता
फिर भी संतोष रहता हैं।
मेरे पापा मुझ पर गर्व करते हैं
इस बात का मुझमें जोश रहता हैं।

*
ऐसे दोस्तों का क्या कहना
जिनको तरक्की से मेरे अफसोस होता हैं
मैं फिर भी उनको दिल के पास रखता हु
क्योंकि दोस्त तो आखिर दोस्त होता हैं।

*
ये दुनिया हैं साहब
हर बात में बोलेगी
कुछ करो तो रोकेगी
ना करो तो टोकेगी

*
हमेशा खारिज नही
कभी कभी दिल की बात भी सुनना होता हैं
चुनिए खुशियां भी मेरे यार ।
ये यूंही साथ में चुनना होता हैं

*
बहुत उम्मीदें हैं पापा की अपने हद तक जोर लगाएंगे
ये करवा तब तक न रुकेगा जब तक न बुलंदी शोर मचाएंगे

*
बहन की शादी कर दी हैं
अब भाई को पढ़ना हैं
बहुत फर्ज हैं अपने सर
एक एक कर सब को चुकाना हैं

*
बटवारा नही भाई
मुझे बेटे का फर्ज सारा चाहिए
अब आधा आधा कर दू
जब उनको पूरा सहारा चाहिए
*
जिंदगी में थोड़ा थोड़ा घूमते रहिए
बहुत तरीके हैं खुश रहने के साहब
थोड़ा थोड़ा बस इनको ढूंढते रहिए

*
जिंदगी में थोड़ा गुनगुना लेते हैं
बहुत गम हैं जिंदगी में यार
चलो आज थोड़ा मुस्कुरा लेते हैं

*
ना किसी के दबाव ना
किसी के विचार से जियो
ये जिंदगी आप की अपनी हैं ।
आप अपने हिसाब से जियो ।

4 Comments

  1. sukhmangal+singh 13/10/2021
    • arun kumar jha 22/10/2021
  2. SARVESH KUMAR MARUT 14/10/2021
    • arun kumar jha 22/10/2021

Leave a Reply