अंग्रेजी का रोग।

न जिंदा छोड़ा न मार ही दिया
अंग्रेजी के इश्क ने देखो रोग ये कैसा दिया
चम्मच और काटें का ने जो साथ है दिया
न पेट भरा न स्वाद मिला
अंग्रेज़ी ने देशी को कैसा रोग है दिया
न छोड़ा साथ न अलग किया
मेहमानी में गए तो स्वागत अंग्रेज़ी का किया
शरबत बताशा नहीं बिस्कुट स्नैक्स है दिया
अंग्रेज़ी ने देखो क्या तमाशा किया
हिंदी को हमेशा निराशा दिया
न अपना पाए न हटा पाए
अंग्रेजी के इश्क ने देखो रोग ये कैसा दिया

Leave a Reply