बेरोज़गारी व आरक्षण – अरुण कुमार झा बिट्टू

क्या कहा पढ़े हो अभी घर पर बैठो
BTech किए हो फिर भी घर पर बैठो।
सरकार को नौकरी से सरोकार नहीं।
इनके पास वादे हैं रोजगार नहीं

क्या कहा गरीब हो फिर तो घर पे बैठो
नोकरी सरकारी नहीं कुछ और सोचो
चपरासी के भी लाखों लाख भाव है।
अजी यही इस देश का दुर्भाग्य है।

क्या कहा जेनरल हो फिर तो घर पे बैठो।
निम्न जाती से हो तो नौकरी की सोचो
यहां नंबर 1 चपरासी बन पाता है।
और दसवा नंबर अधिकारी बन जाता हैं।

क्या कहा बदलना है सिस्टम अजी घर पर बैठो
सारी पार्टी एक है इस पर घर पर बैठो।
यहां तो सिर्फ आरक्षण-2 चलता है
आरक्षण के दम पर शासन चलता है।

ये जातियां मिटती पर कहा मिटने देंगे।
ये सत्ता वालो का दम है कहा घुटने देंगे।
कोई सरकार आए पर ये ना डोलेगा
जाति धर्म पर हर एक नेता बोलेगा ।

Leave a Reply