मोबाइल से नजरें हटाया करोगे।

मोहल्ले में जब तुम आया करोगे
किसी नुक्कड़ पर दोपहरी बिताया करोगे

नजरों से नजरें जब मिलाया करोगे
नए फैशन के दौर भी को आजमाया करोगे

चार लडको के साथ खिलखिलाया करोगे
बूढ़ों से बच कर जाया करोगे

चिट्ठी की पतंगे उड़ाया करोगे
मोबाइल फोन से दूर पीसीओ पर जाया करोगे
किसी की जरूरी बातों को देर कराया करोगे

टीवी देखने के लिए कभी एंटीना घुमाया करोगे
पबजी के खेल छोड़ गीली डंडा खिलाया करोगे

दादी से जब तुम मां की शिकायत कर आया करोगे
बागो से आमो को चुराया करोगे

कुएं के पनघट पर इश्क लड़ाया करोगे
जब जब मोबाइल की दुनिया से नज़र हटाया करोगे
सोचने से बेहतर जिंदगी जी आया करोगे

Leave a Reply