हां अब तुम जा सकते हो।

हां अब तुम जा सकते हो
सामने रखी बात से निजात पा सकते हो

अब तुम्हें समझाऊंगा नहीं
बीती बात याद दिलाऊंगा नही

उसूलों का तो मैं भी पक्का हुं,
जता जता कर अब बहुत्य थका हूं,

तुम अब अपनी रास्ते जा सकते हो
पाबंदियों से या यूं कहूं मुझसे निजात पा सकते हो
हां अब तुम जा सकते हो

कल तक जो हुआ सो हुआ
खुश रहने की तुम्हारी करूंगा दुआ

सब कुछ भूल कर नया जीवन अपना सकते हो
हां अब तुम जा सकते हो

मत कहो कुछ भी अब
दरख्विश बेवजह होंगी अब

बहुत हुईं शिकायते, फर्समाइशे
वक्त है अभी बच सकते हों गलतियों की खाई से

अभी तक तो मैं था
बीन कही जरूरत सा

भीड़ मैं ख़ुद को पा सकते हो
हां अब तुम जा सकते हो।

सफ़ाई की अब जरूरत नहीं
और कोई मैरी भी शर्त नहीं

हां अब तुम जा सकते हो।
मंजिल अपनी पा सकते हो।

Leave a Reply