अक्सर वही लोग सताया करते है।

वादों को लोग अक्सर भुल जाया करते है,
सालों भर का साथ चंद दिनों मे मुकर जाया करते है,
यूं ही नहीं अलग होता है कोई चाह कर,
अक्सर नए के बाद लोग पुराने भूल जाया करते है,
वही लोग अक्सर सताया करते है।

रातें छोटी और बातें बड़ी सी होती है,
साथ मैं दुनिया भी अपनी सी होती है,
जाने के बाद
दुनिया तो क्या
गिने शब्द भी कम पड़ जाया करते है।
वही लोग अक्सर सताया करते है।

ख्वाबों मैं आसमा तक घूम आते है,
जहां तो क्या जन्नत तक झूम आते है,
वक्त बेवक्त कुछ भी न समझ आए,
संग मैं दुनिया तक भूल जाया करते है।
एक दूसरे के हमदर्द जताया करते है,
वही लोग अक्सर सताया करते है।

साथ उठना बैठना खिलना मुस्कुराना,
बुरे वक्त भी बेहतर हो जाया करते है,
उस अकेलेपन मैं भी दुनिया बन जाया करते है,
अक्सर वही लोग भूल करते है,
अक्सर वही लोग सताया करते है।

Leave a Reply