छोड़ तो न दोगे।

हम ने मोहब्बत करी है तुमसे बहुत सोच समझ कर,
कहीं साथ न छोड़ दो तुम किस्मत समझ कर,

बहुत अरमानों से सजाया मेने अपने दिल को,
कहीं तोड़ दो तुम आइना समझ कर,

बड़ी ही मुस्किल से खुद को तुझे सोपां है मेने,
मेरे पिता का तोहफा है, जो पाया है तूने,

बड़े ही नाजों से सम्हाला हैं, पराई अमानत समझ कर,
कहीं खेलोगे तो नहीं मिट्टी की गुड़िया समझ कर,

यूं ही नहीं किसी पर एतबार करना है मुझे,
चंद दिनों का नहीं जिंदगी ता उम्र साथ रहना है मुझे,

कहीं बदनाम तो न कर दोगे राधा समझ कर,
कहीं छोड़ तो न दोगे किस्मत समझ कर।

Leave a Reply