शायरी ।

दुनिया से बेवक्त तक रूबरू रहकर,
तेरे आज मैं कल के लिए वक्त नहीं
क्या खूब झाक दिखाई है,
यहीं हम और तुम सही।

Leave a Reply