सही ।

मुझे अब तुझसे कोई शिकायत नहीं,
क्योंकि अब तुझे मेरी आदत नहीं,
लिखना भुल गया था तु मुझे किस्मत मे अपने,
हां पता है मुझे की अब तुझे मेरी जरूरत नहीं।

चल ये मेरी मोहब्बत और तेरी फितरत ही सही,
मेरे से ज्यादा होगा शायद तेरे लिए और कोई,
फिर भी कभी जरूरत पड़े तो आ जाना,
बेसक मै रहूं बीता हुआ तेरा कल सही,

जाने से पहले एक और बात सुनते जा
तेरे मेरे अधूरे साथ की कहानी जो मेने कही,
कुछ कसमें कुछ वादें कुछ अनसुनी दास्तां ही सही,
कभी कभी मुझे याद कर लिया करना,
तेरा बीता मैं आज नहीं तो कल ही सही।

Leave a Reply