जिन आँखों मे बात न थी,
वो आज नीर भरकर बैठे है ,
जो खुद चमकते थे नाम से,
वो दूसरो को सीतारा कहते है।

Leave a Reply