अन्ना हजारे……………………..देवेश दीक्षित

बचपन अन्ना हजारे का

बीता बहुत गरीबी में

आलम गरीबी का बुआ ने देखा

तो ले आई अन्ना को मुंबई में

 

भारत पाकिस्तान का जब युद्ध छिड़ा

अन्ना खेमकरण सीमा पर नियुक्त थे

पाकिस्तानी हवाई बमबारी में वहाँ

मारे गए जब सैनिक सारे थे

 

अन्ना का जीवन फिर बदल गया

13 वर्ष ओर सेना में शामिल थे

सेना में रहकर सेवा में योगदान दिया

फिर सेवा से निवृत्ति ले ली स्वेच्छा से

 

गाँव का अपने फिर विकास किया

योजना बनाई द्रड़ता से

बिजली का फिर संचार किया

पेंशन लगा दी लोक कल्याण में

 

सदैव भ्रष्टाचार का विरोध किया

क्योंकि भ्रष्टाचारी राजनीतिक पार्टी के थे

तो उनकी अपील को खारिज किया

आखिर सफलता न मिली कानून से

 

इनको आधुनिक युग का गांधी कहा

उन्हीं की तरह अनशन में लीन रहे

उनकी मृत्यु का षडयंत्र रचा गया

वो तो ईश्वर की कृपा है कि वे सुरक्षित रहे

……………………………

देवेश दीक्षित

7982437710

Leave a Reply