नारी -BHAWANA KUMARI

जाऊँ मैं जिस भी क्षेत्र में
अव्वल आ कर दिखलाऊँगी।
तुमसे बिलकुल अलग हूँ मैं
कुछ कर इस दुनिया से जाऊँगी।
नहीं चाहिए तेरा नाम मुझे
मैं खुद के नाम को महान बनाऊँगी।
चाहे लाख लगा दो बंदिशे तुम
मैं एक दिन आसमान छू दिखलाऊँगी।
भले ही जंजीर में जकड़ दो तुम मुझको
पर एक दिन पूरी दुनिया में अलग पहचान बनाऊँगी।

भावना कुमारी

One Response

Leave a Reply