कब समझोगे – डी के निवातिया

अभी नहीं तो कब समझोगे,
आज नहीं तो कल समझोगे,
शाशक  शेर  भूखा गुर्राता है,
खा जाएगा जब  समझोगे !!

***

डी के निवातिया

Leave a Reply