सफलता – अरुण कुमार झा बिट्टू

ए सफलता कब तक तू दूर रह पायेगी।
मेर प्रण पुरुषार्थ मेरा तेरा गरूर मिटाएंगी

Leave a Reply