भटकता बचपन – Bhawana Kumari

कड़कती ठंड में
सड़क के किनारे
मैने देखा था आज
ठिठुरते बदन बहती नाक
में उस मासुम का
भटकता बचपन ।
भावना कुमारी

Leave a Reply