हिंदी दिवस २०२०

भावों की अभिव्यक्ति का करती विधान  है

आर्य-भूमि की संस्कृति का शाश्वत-प्रमाण है

        माला की मणियों-सा जिसने हमें पिरोया

                                                                           देश-देह  की  ऊर्जा-संवेदना-प्राण  है

भारत-माता के माथे की  बिंदी है

राष्ट्र-चेतना की संवाहक हिंदी है

 

भारत के जन-गण की भाषा हिंदी

 राष्ट्र-भाषा ,    देवनागरी-हिंदी  है

Leave a Reply