बहुत अच्छा लगता है……………….देवेश दीक्षित

दिल की अपनी सुनना

सुनकर उस पर विचारना

विचार कर लय में लाना

बहुत अच्छा लगता है

 

शब्दों को फिर आगे चुनना

चुनकर उसे पिरोना

पिरोकर कागज पर उतारना

बहुत अच्छा लगता है

 

कविता का फिर उस को रूप देना

फिर पढ़ कर सुनाना

सुना कर दाद पाना

बहुत अच्छा लगता है

 

कोई कहे बहुत बढ़िया

तो कहे कोई कमाल कर दिया

सुनकर सब की बधाईयां

बहुत अच्छा लगता है

 

कविता का मेरा सार्थक होना

दिलों पर सब के राज करना

चेहरों पर सबके मुस्कान लाना

बहुत अच्छा लगता है

…………………………………………………………………………………………………

3 Comments

  1. डी. के. निवातिया 23/07/2020
  2. vijaykr811 24/07/2020
    • DEVESH DIXIT 25/07/2020

Leave a Reply to डी. के. निवातिया Cancel reply