शराब

जो तुम्हें पसंद हो वो ख्वाब बन जाऐं
तेरी बाहों का नूर ए माहताब बन जाऐं
सनम अगर आदि हो गये हो नशे के
कह दो तो हम फिर वो शराब बन जाऐं

4 Comments

  1. Ashraf 04/07/2020
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 06/07/2020
  3. rakesh kumar Rakesh Kumar 07/09/2020
  4. rakesh kumar Rakesh Kumar 07/09/2020

Leave a Reply