प्रथम पहचान

  ॥    प्रथम पहचान ॥ पहचान का मुखौटा भले दिखाई नहीं देता मगर जिस चेहरे पे है चढ़ताउस सिर पे है राज करता बहुत खामोशी से काम करता हैअपना ही विस्तार करता है रंग रूप मजहब बोली भाषा गावं देश – प्रदेश धरा विचाराधाराअसंख्य  रूपों में बटा सनातन संघर्ष कर रहा ॥ छोटे – छोटे विवादों से लेकर महायुद्धों तक में इसका हाथ हैहर पल हर गली हर शहर हर घर मेंहर ज़हन हर मस्तिष्क में कर रहा खुराफात है।  ये मुखौटे चेहरों पर नहीं ज़हन में पहने जाते हैंसाथ में इनके चश्में भी आते हैंएक जात वालों को एक सच दिखाते हैं हर एक को यूं ही लड़ाते हैंनकली पहचान देकर असली पहचान खा जाते हैं। इन सबके बीच एक और मुखौटा जीता हैप्रथम पहचान जिसका नाम मिलता हैइसकी कोई एक पहचान कोई एक खासियत नहींपर हर किसी में घुलने की हैसियत वाला यहीसारी पहचानों को ये एक साथ अपना सकता हैसबको एक साथ दुत्कार सकता हैहर इक की खुशी में खुशहर इक की गमीं में दुखऔर हर शय से आनंद उठा सकता है। इसे पाने के लिये सभी मुखौटे उतारने होते हैंया यूं कहेंकि कोई भी नहीं पहनना होताये जन्मजात होता हैजो बाद में म्लान होता हैइसी खोए हुए को पाने के लिये कोई वेटिकन, कोई काशी तो कोई क़ाबा तक घूम आता है फिर भी उसमें कोई ना कोई रंग चढ़ा आता हैप्रथम पहचान को आखिरी बनाना चाहता है॥

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

Leave a Reply