क्या मैं और क्या अहम

कूदरत ने बनाया सबकोंसबको कूदरत में मिल जाना हैं ,

क्या मैं और क्या अहमसब एक से हैं ये बताना हैं ।

नफ़रत की धारा में हमनेंअपना चैन अमन सब बहां दिया ,

आई मदद की बारी अपनीमैं कहताउसनें मूझे कूछ कहां दिया ,

ना सुख को कोई खरीद सकाना दुख का कोई ठिकाना हैं !

क्या मैं और क्या अहमसब एक से हैं ये बताना हैं ।

वक्त कभी था अच्छा मेराउस वक्त पे बड़ा इतराऊ मै ,

नीचा दिखाया था कल सबकोंआज क्या मूहँ लेके जाऊं मैं ,

मेहनत अगर सफलता की पूंजी हैंव्यवहार बड़ा खजाना हैं ,

क्या मैं और क्या अहमसब एक से हैं ये बताना हैं ।

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

Leave a Reply