जिम्मेदारी:-विजय

विपदा की घड़ी ये आई हैकोरोना से मची तबाही हैजन-जन ने अब ये ठानी हैकोरोना को मार भगानी हैयह युद्ध बहुत दूरगामी हैभिन्न चरणों में इसे निभानी हैदूरी शारीरिक सबको बनानी हैलॉकडाउन के नियम माननी हैमदद सबको सबो की करनी हैभूखे न किसी को सोने देनी हैकुमारडीह किचन कई खोलनी हैभोजन वितरण भूखों में करनी हैखुद के सामर्थ्य को पहचाननी हैसहायक असहाय की बननी हैभार सरकारो पर न छोड़नी हैजिम्मेदारी जनता को भी निभानी हैमौत लगे जिनको बेमानी हैनिकले कस्बे से जो नामी हैहाथ दीन की अब थामनी हैलिखनी अब नई कहानी हैये जंग मिलजुलकर लड़नी हैकोरोना को देनी पटखनी हैभारत हम सबकी जननी हैविश्व-गुरु इसे अब बननी है

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

Leave a Reply