तकलीफ़ -ए- मिडिल क्लास

“तकलीफ़ – ए – मिडिल क्लास”वबा-ए-मंज़र में देखो परेशाँ हर एक इंसान है;भूक मिटानी घर-बार की नहीं इतनी आसान है।मुफ़लिसी-ओ-मालदारी छुपती नहीं किसी के छुपाने से;वबाल-ए-वस्त बिरादरी, इससे आज हर कोई अनजान है।पाई-पाई जोड़कर महफूज़ रख़ते है अक्सर कुनबे को;आलम-ए-बेकारी में, जिद्दो-जहद ये भी नाकाम है।तंगदस्ती पर इन्तेज़ामिआ ज़रा इनके गौर फरमाएं;रसद पहुँचे घरों तक, नज़र-अंदाज़ इनकी पहचान है।__©✍️अब्दुल्लाह क़ुरैशी

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

Leave a Reply