आओ मिलकर दीप जलायें

जब तिमिर संसृति में अमा सा
विस्तीर्ण क्रन्दन निरुपाय सा
जल रहा विश्व अनल सा,
संसृति हित नवीन उत्थान करायें
आओ मिलकर दीप जलायें ।

विश्व इस समय विषाद में
मनुज क्लांत उद्वेग हृदय में
उन्मुक्त वायु पर मनुज विकल में,
प्रभा की धारा का इन्द्रजाल फैलायें
आओ मिलकर दीप जलायें ।

चन्द्रिका विछी व्योम तल में
उल्का अविरल उन्मुक्त गगन में
पर मनुज निरुपाय गेह में,
संसृति की रक्षा खातिर ईशवर्म पहनायें
आओ मिलकर दीप जलायें ।

निरंकुश मानव विस्तीर्ण विज्ञान
दुर्जेय दुर्निवार शार्दूल समान
पर असहाय आज मौन अभिमान,
छोंड़ उसके विगत विकार प्रकृति मन अपनायें
आओ मिलकर दीप जलायें ।

मानव यदि अब भी न सुधरेगा
तो प्रकृति का कोप भाजन बनेगा
विश्व अंगार शैय्या झेलेगा,
“आनन्द” मधुर मारूत संग दीप झिलमिलायें
आओ मिलकर दीप जलायें ।।

-आनन्द कमार
हरदोई (उत्तर प्रदेश)
५/४/२०२०

3 Comments

  1. vijaykr811 06/04/2020
    • आनन्द कुमार 07/04/2020
  2. Manish Mishra 19/04/2020

Leave a Reply