कोरोना – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – (बिन्दु)

कोरोनान हाथ मिलाओ न गले लगाओकोरोना को अब दूर भगाओ।संक्रमित एक रोग है ऐसालगे तो गहरे सोग के जैसा।दुखों की घड़ी आई हम सब परउसको हम दूर करें सब मिलकर।सतर्क रहें और सतर्क करें हमबिन मतलब का ना तर्क करें हम।सुनो रे भैया सुनो रे बहनासाफ – सफाई में तुम भी रहना।श्वसन क्रिया बंधित हो जातीगति हृदय की कंपित हो जाती।लगती हुई जैसे सर्दी – खाँसीबुखार दर्द में पड़ गयी फ़ाँसी।नाक – आँख को ना छूएँ हरदमहाथों में ही तेरा है दमखम।भीड़ – भाड़ में तुम मत ही जाओताजा सादा ही भोजन खाओ।पूरे देश भारत का है समर्पणइससे ही होगा उसका तर्पण।बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – (बिन्दु)बाढ़ – वायरस कोरोनाजैविक तत्वों से बना वायरसअंदर जब घुस जाता हैबारह धंटे पूरे होतेऔर फिर मर जाता है।बारह दिनों तक ऊपर – ऊपरगला नाक फंस जाता हैहल्की बुखार दर्द देह मेंखाँसी से लद जाता है।महामारी कितने ही आएअब कोरोना भारी हैहैजा प्लेग न जाने कितनेआते ये बारा – बारी है।बचपन से पचपन तक मैंनेबहुत कुछ ऐसे देखे हैंषड्यंत्र दवा माफियाओं काकुछ अलग इनके ठेके हैं।अरबों के धंधा हैं चलतेजनता तो पागल अंधी हैगुमराह में हम सब रह जातेआदत बड़ी ये गंदी है।पैंतिस डिग्री तापमान तकवह जिंदा रह सकता हैअगर बढ़ा यह तापमान तोकोरोना मर सकता है।आओ जतन करें हम अपनादेखे फिर सुंदर सपनासाफ सफाई और दूरी सेसार्थक होगा अब बचना।वायरस वुहान में जन्मा थाचार सौ माइक्रोन वालाअमेरिका फ्रांस इटली जर्मनीसबका है हुआ दिवाला।गुणांको में यह फैल रहा हैकोई है नहीं अछूताहोता है खिलवाड़ चीन मेंमारो अब उनको जूता।जागृत है सरकार हमारीहाथ में हाथ दें उनकाथोड़ा कष्ट मिलकर सह लेंगेहोगा भला फिर सबका।बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – (बिन्दु)बाढ़ – पटनाकोरोना – भोजपुरीकोरोना के करा ऊपाई ए भैयाघर में रहा लुकाई ए भैया।।सरकारी करफू लागल बा सगरेगाँव मोहल्ला शहर नगरे – नगरे।कोरोना के करा सफाई ए भैयाघर में रहा लुकाई ए भैया।।दूरी बनावा बात करा दूर सेबच के रहा भाई अबहीं टूर से।कोरोना ई नाच नचाई ए भैयाघर में रहा लुकाई ए भैया।।रहबा सतर्क त लाभ मिल जाईबाची जिनगी त ढेरो कमाई।कोरोना ई सब के मुआई ए भैयाघर में रहा लुकाई ए भैया।।केतने ही देशवा एकरे चपेट मेंआपन देश के घूसल बा गेट में।मिलके कोरोना भगाईं ए भैयाघर में रहा लुकाई ए भैया।।जे जहाँ बाटे पड़ल रहा घर मेंछुप जा भैया तकिया के तर में।कोरोना के नैहर पहुँचाई ए भैयाघर में रहा लुकाई ए भैया।।बड़का खतरा छुआछूत के बेमारीसगरे फइलल बा देखा महामारी।कोरोना केतना के खाई ए भैयाघर में रहा लुकाई ए भैया।।बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – (बिन्दु)बाढ़ – पटनादोहा – (कोरोना)संक्रमण एक रोग है, कोरोना का तोपविश्व पटल पर छा गया, महामारी प्रकोप।रहिए इससे दूर ही, संयम रखिए आपमत खोने दें धेर्य को, आया बनके शाप।रहें घर में बंद सभी, कर्फ्यू है कुछ रोजराष्ट्र हित में है कदम, बदलें अपना पोज।मत निकलें बाहर अभी, बचके रहिए आपछुआछूत का रोग है, याद दिलाए बाप।साफ सफाई हो तभी, रह पायेंगे साथआपस में बस प्रेम हो, पर दूरी दो हाथ।पालन हो निर्देश का, है ये अपना धर्मविवश है सरकार भी, करें हम अपना कर्म।नाक मुँह और आँख से, ये कोरोना रोगतीनों द्वार प्रवेश है, काम न आता योग।लाइलाज है रोग यह, दवा न निकला कोयबिना मौत सब मर रहे, जहाँ तहाँ सब रोय।बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – ( बिन्दु )बाढ़ – पटनाडर का आलमडर का आलम थमता नहीं क्योंसंकट है जो टलता नहीं क्यों।कोई रास्ता उपाय बता दोइतना हममें क्षमता नहीं क्यो।।एक कोरोना सब पर भारीसमझ न आया ये महामारी।चीन से फैला है देशों मेंआफत आई कैसी बीमारी।।महाशक्ति कहे जाने वालेलगा लिये क्यों मुंह पे ताले।हैकड़ी हो गई गुम सभी कीखोज रहे मिल जाए रखवाले।।इसका है एक अभी परहेजखुद अपने को तुम रखो सहेज।मत करना तुम सभी मनमानीकोरोना को अब वापस भेज।।साफ सफाई तुम रखो भरपुरबात भी करो तुम रहके दूर।सरकारी कर्फ्यू को मानोमत समझो हम हैं मजबूर।।राष्ट्र हित की बात हो सबमेंजन मानस की बात हो सबमें।घरों में रहिये बंद सभी अबभाईचारे जज्बात हो सबमें।।इतना तो सभी साथ निभाओदूर रहके ही हाथ हिलाओ।जान रहे तभी लाख उपाईइतना ही बस सद्बुद्धि लाओ।।बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – (बिन्दु)बाढ़ – पटनावायरसयह वक्त का कैसा तकाज़ा हैख़बर कोरोना की ताजा है।कौन है जो इसका खबर लेगाकिसके पास यह अंदाजा है।।आ गया दूत बनके वुहान सेबहुतों को मारेगा जान से।सतर्क रहो, घर में बंद रहियेजल्द विदा कीजिए जहान से।।इस वायरस को मत फैलाइयेदूर रहकर सबको बचाइये।साफ़ – सफाई ताजा हो खानाऐसा ही आप सब अपनाइये।।धेर्य और साहस दिखाइयेअपना देश मिलकर बचाइये।न दुआ काम आ रही ना दवाशान्ति और अमन चैन लाइये।।चिकित्सक लग गये हैं प्रयास मेंदिनों रात जुटे हैं वो आस में।तकलीफ है मरीज को साँस मेंसोते भी नहीं इतने ह्रास में।।सरकारें अपनी काम कर रहीप्रशासन आपदा से लड़ रही।हमें अपना फर्ज निभाना हैदवंगों की हैकड़ी उतर रही।।

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

One Response

  1. hitishere 01/04/2020

Leave a Reply