वास्ता:-विजय

आंखे तो है , पर राह दिखता नहीदिल तो है , पर ये धड़कता नहीकश्मकश जिंदगी की है ये कैसीखुली फ़िजा में भी सांसो से वास्ता नहीमहफ़िल तो है, पर कोई अपना नहीनींद तो है , पर कोई सपना नहीचिराग-ए-उम्मीद की ख्वाहिश है ये कैसीजलने की चाहत में भी झोंकों से वास्ता नहीजुबां तो है , पर अल्फाज़ निकलता नहींजख्म तो है ,पर आह तक करता नहीकत्ल जिंदगी ने भी की है ये कैसीकातिल होकर भी जुर्म-दाग से वास्ता नहीहथेली तो है , पर लकीरें-किस्मत नहीजिंदा तो है,पर जिंदगी की हसरत नहीजिंदगी के भवर में नाव उतरी है ये कैसीडूबने के जद में भी डर से वास्ता नही

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/12/2019
    • vijaykr811 vijaykr811 19/12/2019

Leave a Reply