खुला आसमान चाहिए – डी के निवातिया

खुला आसमान चाहिए


चन्द ज़मीं का टुकड़ा नहीं मुझे पूरा जहान चाहिए,
मैं बेख़ौफ़ परिंदा हूँ मुझको खुला आसमान चाहिए !!
!
कोई बने मालिक हवेलियों के, महलों में राज करे,
मुझे तो बस आपके दिलो में, थोड़ा स्थान चाहिए !!
!
कोई लगाए इत्र, कोई मखमल के गद्दों पे नाज़ करे,
चाह नहीं इनकी, मुझे, गुलिस्ताँ में पहचान चाहिए !!
!
होंगे राजे-रजवाड़े, मीर, शहज़ादे, घोड़े-हाथी, बंगले-गाडी,
ये सब मेरे किस काम के, मुझे, आपकी दुआओं का इनाम चाहिए !!
!
चल निकला हूँ सफ़र-ऐ-जिंदगी पर उड़ते परिंदे की तरह,
रोके न रुकेगा “धर्म”, बस नज़र -ऐ-इनायत इंसान चाहिए !!
!

डी के निवातिया

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 18/10/2019
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/10/2019

Leave a Reply