माँ जगदम्बे – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

माँ जगदम्बे,जय माँ अम्बे,जय-जय माँ दुर्गे काली
कौन न जाने,दया को तेरी, विपदा हरने वाली।
जय जय हो माता – जय जय हो माता………….. ।

तू करुणा की सागर माता
तुम से ही है सबका नाता।
तेरे दर पर जो भी आता
खाली हाथ नहीं वह जाता।।

माँ जगदम्बे,जय माँ अम्बे,जय काली खप्पर वाली
कौन न जाने, दया को तेरी, विपदा हरने वाली।
जय जय हो माता – जय जय हो माता………… ।।

शेरावाली – जोताँवाली
तुम माता हो महरांवाली।
चौदह भुवन गुणगान तेरी
तीनों लोकों में शान तेरी।।

जय जगदम्बे, जय माँ अम्बे, माँ कष्ट मिटाने वाली
कौन न जाने, दया को तेरी, विपदा हरने वाली।
जय जय हो माता – जय जय हो माता….………. ।

ज्योत जलती सदा तुम्हारी
चरण कमल में दुनिया सारी।
लाल चूनर में रूप सुहाना
लगती हो तुम कितनी प्यारी।।

जय जगदम्बे, जय माँ अम्बे, जय बखोरापुर वाली
कौन न जाने, दया को तेरी, विपदा हरने वाली।
जय जय हो माता – जय जय हो माता……….. ।

महिषासुर मर्दिनि हो माता
चण्ड- मुण्ड, मधु – कैटभ मारे।
शुम्भ – निशुम्भ के गर्दन काटे
राक्षस कुल सारे संहारे।।

जय जगदम्बे, जय माँ अम्बे, माँ संकट हरने वाली
कौन न जाने, दया को तेरी, विपदा हरने वाली।
जय जय हो माता – जय जय हो माता………… ।

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

3 Comments

  1. C.M. Sharma 05/10/2019
    • Bindeshwar prasad sharma 05/10/2019
  2. डी. के. निवातिया 05/10/2019

Leave a Reply