पानी – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

पानी

पानी याद दिलाती नानी
पानी से ही पानी – पानी।

कभी पानी नाक के ऊपर
बिन पानी मर गया कबूतर।
बरखा भी क्या रंग दिखाती
कभी हंँसाती कभी रुलाती।।

यह तो उसकी है नादानी
पानी से ही पानी – पानी।।

पर्यावरण का बिगड़ा रूप
सुख गयी नदियाँ, पोखर कूप।
संतुलन में कहाँ है सबकुछ
बुद्धि अपनी क्यों हो रही तुच्छ।।

बरखा करती अब मनमानी
पानी से ही पानी – पानी।।

बाढ़ कहीं सूखा कर जाती
जिंदा जीव निगल खा जाती।
इसका भी हम सब हैं दोषी
कौन कहता है हम निर्दोषी।।

लाभ होता तो कहीं हानी
पानी से ही पानी – पानी।।

रूप इसका है बड़ा भयंकर
जैसे तांडव करता शंकर।
एक खुशी का दीप जलाये
दूजा संकट भारी लाये।।

यह सबकी जानी पहचानी
पानी से ही पानी – पानी।।

संकट क्या ? किसान से पूछो
दर्द दिलों का उनका बूझो।
जो हमको अनाज हैं देते
उनके सिर का ताज छिन लेते।।

झेल रहा है हिन्दुस्तानी
पानी से ही पानी – पानी।।

दोष नहीं सरकार को देना
जारी है क्यों घूस का लेना।
अपने आप को हम सुधारें
लोभी मन को अपने मारें।।

बात “बिन्दु” की करे हैरानी
पानी से ही पानी – पानी।।

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

Leave a Reply