बाबा की बखरी

गांव गई तो मुझे मिला
बाबा का घर
मिट्टी की दीवारें
खपरैल और छप्पर
खपरैल की मुंडेर पर
घड़े से बनी
कलशनुमा कलाकृति
घर को बनाती खूबसूरत,
घर अब घर नही
बल्कि कहलाता
बाबा की बखरी।
गांव की पहचान थी
वो बखरी
या यूं कहें कि गांव
उस बखरी के नाम से ही
जाना जाता था।
मेरा गांव बाबा की बखरी।

बखरी में कई कमरे थे
हर कमरे में एक छोटा
परिवार रहता था
और हर कमरे का द्वार
आंगन में खुलता था।
हमारे शहर के फ्लैट से
बिल्कुल अलग
उस आंगन में सब का
भोजन एक साथ पकता था
और हर परिवार मिलकर
पकाता और खाता था
कहने को छोटे छोटे कई
परिवार थे
लेकिन वास्तव में सब एक ही
कड़ी से साकार थे।
एक बड़ा संयुक्त परिवार
हुआ करता था
हर सुख दुख आंगन में
बैठ बांट लिया करता था।
जरूरत नही होती थी
किसी गैर को अपना
दुःख बयाँ करने की
क्योकि बखरी के अंदर
और बखरी के बाहर
सब अपने ही तो थे
कोई गैर नही था।
आज वो कड़ी
मेरे बाबा हमारे बीच नही है
और बाबा की बखरी खाली
वीरान पड़ी है।
क्योकि हम प्रगति कर गए है।
और हमने बना लिए हैं
अलग अलग घर।
बस नही बना पाए तो
वो कड़ी
वो बखरी
जैसे बाबा ने बनाई थी।

    देवेंद्र प्रताप वर्मा"विनीत"

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

One Response

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 29/08/2019

Leave a Reply