जानिये मुखर्जी नगर में पुलिस व् टेम्पो चालक में झड़प का असली कारण !!

यूँ तो रोज नित्य कई घटनाये होती रहती है लेकिन मुखर्जी नगर के इलाके की घटना इसीलिए थोड़ी संवेदनशील है क्योंकि झड़प करने वाला व्यक्ति सिख समुदाय से है ! भारत में सिख समुदाय को बड़े ही सम्मान व् गौरवमय तरीके से देखा जाता है क्योंकि उनके दस गुरुओं में से लोकप्नेरिय गुरु गुरु गोबिंद सिंह जी ने जो परम्परा और ज्ञान समस्त संसार को दिया है वो आज भी करोड़ो लोगो को जीवन जीने के तरीके में एक अतुलनीय योगदान दे रहा है !! एक सामाजिक विषयों पर लिखना मुश्किल हो जाता है जब आपका निजी जीवन ही सागर जैसा उथल पुथल हो लेकिन जब लाखो लोग टीवी और सोशल मीडिया पर न्यायधीश बनकर एक धारणा बना लेते है तो लिखना जरूरी हो जाता है कि पर्दे के पीछे के सच को भी देख लेना चाहिए !!वीडियो को पहले आप अच्छे से देखिये उसके बाद आपको मेरे लेख की बातें अच्छी से समझ में आएगी ! मेरे भी लोकप्रिय और आदरणीय हमेशा से सिख व् पंजाबी वर्ग के लोग रहे है लेकिन ये भी सच है कि गरीबी और रोजमर्रा के खीज से परेशान व्यक्ति चाहे किसी भी वर्ग.सम्प्रदाय और धर्म से हो , छोटी छोटी बात पर सनक ही जाता है !! चलिये वीडियो को ध्यान से देखिये फिर खुद तय कीजिये पुलिस वाले गाली सुनने के हकदार है य टेम्पो वाला हीरो बनने का अधिकारी !! वीडियो शायद छत य बालकनी से ली गयी है ! टेम्पो चालक और पुलिस में कुछ कहा सुन होती है और टेम्पो चालक हवा में तलवार लहराते हुए उसे देख लेने की चुनौती देता है ! दोनों तरफ से शायद यही बातें सुनने को होती है और उसी बीच टेम्पो चालक का बेटा उसे खीचकर वापस ले जाता है ! शायद ये कह रहा हो पापा बस करो य छोड़ दो !! मत करो झगड़ा !!! ध्यान दे ! वीडियो शेयर करने वाले और इस टेम्पो चालक को हीरो बताने वाले कह रहे है कि पुलिस वाले ने रिश्वत य वसूली करने की कोशिश की पर इस वीडियो में ऐसा कुछ नही दिख रहा है उल्टा पुलिस वाले को ही धमकी दी जा रही है और अगर मान ले कि पुलिस वाले ने रिश्वत लेने की कोशिश की तो आस पास लोग क्या विरोध नही करते ?? भरी सवारी वाले टेम्पो में रिश्वत ली जा सकती है ?? 

झगड़े से पहले बेटा पिता को वापस ले जाते हुए

अगर पुलिस गलत थे तो टेम्पो चालक को शिकायत करनी चाहिए थी अपने समुद्य विशेष के मुखिया से य उन सबसे जिनके साथ अभी उग्र प्रदर्शन किया जा रहा है ! य सोशल मीडिया की सहायता ली जाती य केजरीवाल को बताया जाता पर इसके विपरीत टेम्पो चालक हवा में तलवार लहराकर मीडिया के अनुसार बात कर रहा था !!

वीडियो को ध्यान से सुनने पर आप देख सकते है कि वीडियो बनाने वाला अपने कमेंट से क्या कह रहा है ! आज दिखायेगा सरदार क्या होता है , सन्नी देवल की तरह गदर फिल्म के हीरो को ध्यान में रखकर जब आप वीडियो बनायेंगे तो आपको हर सरदार सनी पाजी ही नजर आएगा जैसे कोई राष्ट्रवाद का मुद्दा हो ! वो टेम्पो चालक खिसिया हुआ दिख रहा है और तलवार लहराते हुए पुलिस को ही चुनौती दे रहा है ऐसे में पुलिस क्या करेगी ये भी आप अच्छे से जानते है ! खतरा भांपते हुए एक पुलिस कर्मचारी ने फ़ोन पर और थाना आवाज मारकर साथी पुलिस कर्मचारियों को मदद के लिए बुलाया और इसमें भी वो टेम्पो चालक शांत नही हुआ ! तलवार दिखाकर 2-4 होने के लिए पुलिस वालो को मजबूर कर रहा है !! आगे क्या हुआ वो आप वीडियो में देख ही सकते है !! पुलिस अगर गलत करती तो आस पास के  लोग विरोध जरुर करते पर उग्र प्रदर्शन करने वालो में सिर्फ सिख समुदाय से है और बाकि समुदाय सिर्फ अपने जुबान गंदे करके देश की सबसे अहम विभाग पुलिस पर गालियाँ देने का काम कर रही है !!

घायल होने के बाद की तस्वीर

वीडियो को अगर आप ध्यान से देखे तो पुलिस वालो ने आत्म रक्षा के लिए उससे तलवार हटाने के लिए डंडे उसके हाथो में मारे पर जब टेम्पो चालक हिंसक हो गया तो आप समझ सकते है कि वो सिर्फ तलवार दिखाने के लिए नही मारने के लिए लहरा रहा था !! सिविल ड्रेस में एक पुलिस अफसर उसे पीछे से पकड़ता है और उसकी तलवार छुड़ाने के लिए पुलिस वाले उसके हाथो में मारते है लेकिन वो टेम्पो चालक किसी तरह से अपना हाथ छुड़ाने में  कामयाब हो जाता है और अपने तलवार से पुलिस वाले पर सबके सामने मारता है !ध्यान दे , जो भी लोग ये कह रहे है कि पुलिस वाले ऐसे ही होते है तो उन्हें समझना होगा कि रीवोल्वर होते हुए भी उन्होंने डंडे से मारा , किसी खून कर देने वाले अस्त्र , शस्त्र से नही !! पुलिस वालो की टोली उससे तलवार छुड़ाने के लिए संघर्ष करती रही लेकिन नाकामयाब रही और इसी बीच उस टेम्पो चालक का लड़का दोनों से झगड़ा शांत कराने की गुहार लगा रहा था लेकिन झगड़े में वो भी अपने पिता का साथ देने लगा और भरे सड़क पर जहाँ आम नागरिक और कुछ की गाड़ियाँ भी थी उसमे अपनी टेम्पो चढ़ा दी ! ये एक हत्या का प्रयास भी था ! जिसमे किसी की भी मौत हो सकती थी !! मीडिया वाले इसे आत्म रक्षा और न जाने क्या क्या बताने की कोशिश में लगे हुए है लेकिन सच ये है कि ये एक विकृत मानसिकता वाले लोग है जिसे सरदार बोलना सरदारों का अपमान होगा ! सरदार तो बड़े निराले और दिलवाले होते है और ऐसे लोग सरदार के नाम पर कलंक और सरदार का नाम खराब करने वाले है !! पुलिस को ऑन ड्यूटी तलवार मारना , गाड़ी चढ़ाना ! तो उसके बाद पुलिस क्या उनकी आरती उतारती ??? अब आप ही तय करें कि पुलिस क्या हफ्ता वसूलने के लिए ये सब करेगी ?? और क्या थाना चलने के लिए कहने पर कोई तलवार से बिना वजह ऐसे मार सकता है ! और उसे आत्म रक्षा का नाम देना बेहद शर्मनाक और बचने का तरीका मात्र है ! मै ऐसे  लोगो से आहत और हैरान हूँ जो वास्तविकता को परखे बिना ही एक तरफा राय देकर कुछ भी बुरा भला कह रहे है ! स्थिति के दोनों पक्षों को समझे ! स्थिति ऐसी नही थी कि तलवार मारा जाये ! तलवार और डंडे में बहुत फर्क है और ये एक संयम की बात है कि इतना कुछ होने के बावजूद उसपर गोली नही चली !!!नीचे वीडियो देखिये और खुद सोचिये कि तलवार से घायल होने के बाद भी टेम्पो चालक के एकतरफा बातों से भावनाओ में बहकर कैसे तोड़-फोड़ मचाई गयी ! नेताओं के कारण उस टेम्पो चालक को हीरो और पुलिस वालो को माँ,बहन की गालियाँ सुननी पड़ रही है !! मेरा अनुरोध है कि आप भी अपने विचार इस घटना पर जरुर दे ताकि निकम्मी नेताओं और मीडिया को पता चल सके कि जनता है कि सब जानती है !!हर हर महादेव 

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया 01/07/2019

Leave a Reply