मन का विश्वास – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

अल्लाह ईश्वर यहीं हैं भाईनानक, यहीं पर ईसा साँई।नाम अलग या अलग है भाषाइंसान यहीं पर, यहीं कसाई।वाह रे भैया वाह रे बाबूभ्रम में, खोज रहे परछाई।तनिक विश्वास नहीं है मन मेंअपनी कहें या उसे पराई।सभी को बांटा जात – पात मेंइनमें इसलिए इतना खाई।अलग – थलग है धर्म बनायाउसने, छोड़ा कहाँ अच्छाई।भुल – भुलैया में सबको रखकेऐसी उसने रीत अपनाई।अपना ही उल्लू सीधा करनाउसी ने ही तो है सिखलाई।पाखंडी गुरुओं की देन हैजिसने भी ये आग लगाई।सभ्यता संस्कृति जिन गुरुओं नेसामाजिकता की पाठ पढ़ाई।उन गुरुदेव को नमन है मेराजिन्होनें अपना धर्म निभाई।आज कलह इतना है फैलाघर तो घर, बाहर तक लड़ाई।भूल कर अब उस परम्परा कोअब करने लगे हैं बेवफाई।रिश्ते – नाते रह गये नामों केइनके बीच भी ठगी – ठगाई।बचना भी अब मुश्किल है”बिन्दु”तुम अब जितना भी करो उपाई ।

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

One Response

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/06/2019

Leave a Reply