पर्यावरण दिवस – डी के निवातिया

पर्यावरण दिवस
***

पेड़-पौधे काटकर बैनर, पोस्टर बना रहे है,
संदेशो में जागरूकता अभियान चला रहे है ।
!
विलासिता पूर्ण जीवन जीने की चाहत में,
हम प्राकृतिक सम्पदा को नित मिटा रहे है।
!
अपने ही हाथो से घोंटकर गला दरख्तों का,
मशीनीकरण के आदी हो जीवन बिता रहे है।
!
किसे परवाह क्या होगा आने वाली पीढ़ी का,
निज स्वार्थ में अंधे अमूल्य थाती लुटा रहे है।
!
गाडी, बंगले और आबादी की रफ्तार बढ़ाकर,
अपने हाथो से हम को पर्यावरण मिटा रहे है।
!
खोदकर कब्र अपनी खुद ही जश्न मना रहे है
इस तरह से हम पर्यावरण दिवस मना रहे हैी
!
स्वरचित : डी के निवातिया

6 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 17/06/2019
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 02/07/2019
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/06/2019
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 02/07/2019
  3. Vivek Singh Vivek Singh 03/07/2019
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 03/07/2019

Leave a Reply