गंवारा नहीं – डी के निवातिया

गंवारा नहीं

***

जाज़िब आब-ए-आईना है हम, कोई आवारा नहीं,हुस्न करे नज़रअंदाज़ कोई ये हमको गंवारा नहीं ।

मिल गए है ख़ाक में हूर-ऐ-जन्नत जाने कितने,लेकर अपनी पनाहो में जिसे भी हमने संवारा नहीं।

ये जो गुमान करके इतराते फिरते हो अन्जुमन में,अदा-ऐ-अमानत का, हमारे बिन कोई सहारा नहीं ।

माना ये ताज, तख्त ,ताकत, सब गुलाम है तुम्हारे,मगर सुन ले ऐ हुस्न, बिन हमारे, तेरा गुजारा नहीं ।

बिखर के चूर-चूर हो जाता है टकराकर आफताब भीकैसे कह दे “धर्म” इस जहान में रूतबा हमारा नहीं ।।

!स्वरचित: डी के निवातिया


 

आब-ए-आईना= दर्पण की चमकजािज़ब= मनमोहक, आकर्षकअन्जुमन = परिषद् ,सभा, सम्मलेनअदा-ऐ-अमानत + खूबसूरती की धरोहर, हुस्न की मलकियत

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/04/2019
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/05/2019
  2. davendra87 Devendra pratap 25/04/2019
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/05/2019

Leave a Reply