काज पांच साल का:-विजय

दे रहा हिसाब तुमको मैं आजपांच साल किया है जो हमने काजकौशल विकास का रथ दौड़ायाहर हुनर को हमने पंख लगायास्टार्ट-अप स्टैंड-अप हमारा मिशनदे रहा युवा को है नवजीवन“मुद्रा” का मिल रहा कितनो को लाभयुवा में बढ़ रहा स्वरोजगारगली-मोहल्ले की हो रही सफाईस्वच्छता की हमने दीप जलाईघर-घर में शौचालय बनवाईबहू-बेटी की है लाज बचाईजगमग करती अब गांव की गलियांगांव में न अब बिजली की कमियांबनाती धुँए में जब खाना थी सखियाँ“उज्जवला” ने दूर कर दी वो बतियां“जन-औषधि” से दवा हुआ सस्ता“आयुष्मान भारत” से इलाज हुआ पक्कासड़को और पुलों का बढ़ रहा है जालदेखो नदियों से हो रहा है व्यापारमिट्टी की सेहत की होती है जांचमिल रहा किसानों को इससे है लाभउचित मूल्य और बीमा फसलों सेहर किसान का आँगन है खुशहालखेल भ्रष्टाचार का किया हमने बंदचोर हो रहे अब जेलो में बंदघाटों पर कल तक फैला था मैलादेखो वहाँ लगता है संतो का मेलासेना को हमने खुली छूट दिया हैदुश्मन को घर में घुसकर कूट दिया हैथर-थर दुश्मन अब काँप रहा हैदुनिया में भारत का जयगान हो रहा है

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/04/2019
    • vijaykr811 vijaykr811 20/04/2019
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/04/2019
    • vijaykr811 vijaykr811 21/04/2019

Leave a Reply