अभिनंदन तुम्हारा हार्दिक अभिनंदन

अभिनंदन तुम्हारा हार्दिक अभिनंदन ,अभिनंदन तुम्हारा हार्दिक अभिनंदन :अभिनंदन के कुशल पूर्वक भारत लौट आने पर ,हम सब की ओर से उस वायु वीर का हार्दिक अभिनंदन ।याद करो 14 फ़रवरी 2019 का वो बेरहम दिन ,42 जाँबाज़ सैनिक शहीद हो गए थे मिनट भर में उस दिन,आत्मघाती आतंकवादी दस्ते ने उड़ाई थी CRPF की वो बस ,ऐसी परिस्थिति में पूरा देश कराह रहा था होकर आग बबूला और बेबस ।26 फ़रवरी 2019 का वो दिन बना था बदले का मंगल वार ,10 mirage भारत से उड़े और दुश्मन के घर में घुसकर किया जो वार,नेस्तनाबूत कर दिया आतंकवाद के अड्डों का पनपता कुटिल साम्राज्य,21 मिनट की बम वर्षा करके वापस लौटे सारे पाइलट लेकर अपना अपना जहाज़ ।आतंकवाद का पनाहगार, शांति का दुश्मन मलता रह गया हाथ ,पर मति भ्रम हो जाता है वो देश जो देता है आतंक वाद का साथ ,दुस्साहसी ने भेजे दस F 16 jet bomber भारत की सीमा के अंदर ,भारत की वायु सेना के radar ने कर लिया इनकी एंट्री को detect सीमा के अंदर ।तुरंत उड़ान भरी IAF के jet फ़ाइटरो ने और F 16 खदेड़ने का किया साहस,पर एक F-16. करने लगा और अंदर घुसने का प्रयास ,जाँबाज़ अभिनंदन ने ज्यों ही भाँपा उसका इरादा ,तुरंत लॉक इन किया अपना MIG 21 उसकी राह में बन कर बाधा ।सोचो ज़रा , कहाँ modern F -16 और कहाँ MIG 21 शक्ति में आधा,फिर भी अभिनंदन ने अपनी missile से उस पर निशान साधा ,याद है आपको जटायु ने जिस प्रेरणा से बलशाली पर पथभ्रष्ट रावण के समक्ष अपना शरीर अड़ाया ,उसी भारतीय परम्परा से प्रेरित होकर अभिनंदन ने F 16 के आगे पुराना MIG लड़ाया ।उस समय ख़तरे में थी सीता माता ,परंतु आज ख़तरे में थी भारत माता ।जब अभिनंदन का जेट भी बन गया दुश्मन का निशाना ,उचित समझा उसने parachute से नीचे छलांग लगाना ,हवा का रूख ले गया उसे दुश्मन की धरती पर ,क्या कर सकता था वो हवा की इस ग़लती पर ।जैसे ही भाँपा, यह तो POK में उतर गया parachute,शत्रु से घिरे अभिनंदन ने किया हवा में शूट ,दौड़ कर पास के एक दरिया में गया वो कूद ,उनके हाथ न लगने दिए सरकारी काग़ज़ात, कस्मकस के बावजूद ।पाक सेना के क़ब्ज़े में भी कुछ न बताकर दिया उसने अपनी देश भक्ति का परिचय ,यही जजबॉ तो दिलाता है भारत की फ़ौज को शत्रु पर विजय ,उसके interrogation का video तो सबने ही देखा होगा ,उसकी निडरता और साहस का रोमांच महसूस अवश्य किया होगा ।वागा बॉर्डर पर उसकी वापसी का द्रश्य देखने को पूरा देश था आतुर ,वायु वीर की एक झलक लेकर हमारे सबके मुँह से निकला शाबाश बहादुर ,देश की बहने भी खड़ी थी लिए थाली में हल्दी और चंदन ,तिलक करेंगे उस वीर को, लौट कर आएगा जब पाइलट अभिनंदन ।जय हिंद , वन्दे मातरम , भारत माता की जय ।जय हिंद , वन्दे मातरम , भारत माता की जय ।

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

2 Comments

  1. C.M. Sharma 15/03/2019
  2. डी. के. निवातिया 15/03/2019

Leave a Reply